Skip to main content

Posts

Showing posts from January, 2014

Reflections

महफ़िलें वही हैं, ये
जाम दूसरा है
बाज़ार है वही, पर
दाम दूसरा है

ख्वाहिशें वही हैं
खुमार दूसरा है
यार भी वही हैं, पर
प्यार दूसरा है

सब कुछ है हूबहू, बस
ख्याल दूसरा है
वो साल दूसरा था, ये
साल दूसरा है

_______________________________________________

mehfilein wahi hain, par
jaam doosra hai
bazaar bhi wahi hai, par
daam doosra hai

khwahishein wahi hain
khumaar doosra hai
yaar bhi wahi hain, par
pyaar doosra hai

sab kuchh hai hu-ba-hu, bas
khayal doosra hai
woh saal doosra tha
yeh saal doosra hai